Haryali Yojana 2022: पेड़ लगाने के लिए मिलेंगे अब सरकार से पैसे, देखें इस योजना के बारे में

Haryali Yojana 2022 – आज की इस आर्टिकल में हम ऐसी योजना के बारे में बात करने जा रहे हैं जिसमें यदि आप पेड़ लगाते हैं तो आपको सरकार द्वारा पैसे मिलेंगे. बहुत से लोग इसमें अब सोच रहे होंगे कि क्या ऐसा संभव हो सकता है. तो हम आपको बता दें कि जी हां यह बिल्कुल संभव हो सकता है. क्योंकि यहां सरकार का उद्देश्य फ्री में सिर्फ पैसा ही बांटना नहीं है साथ साथ में पर्यावरण में भी सुधार करना है. इसलिए यदि आप इस योजना के बारे में संपूर्ण जानकारी चाहते हैं तो इस आर्टिकल को अंत तक बिल्कुल ध्यान पूर्वक पढ़ते रहिए जिससे कि कोई भी जानकारी आप से ना छूट पाएं.

apsmhow

Haryali Yojana 2022

बिहार प्रदेश में हरियाली बढ़ाने के उद्देश्य से जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण विभाग द्वारा एक योजना की शुरुआत की गई है जिसके अंतर्गत पेड़ लगाने के बदले किसानों को पैसे दिए जाएंगे. किसानों को इसके लिए एक निश्चित धनराशि जो कि सरकार ने निर्धारित की हुई है वह दी जाएगी. इस योजना के अंतर्गत किसानों को ₹10 प्रति पौधे के आधार पर पैसे दिए जाएंगे. सरकार का उद्देश्य इसमें किसान की आमदनी बढ़ाने के साथ-साथ पर्यावरण की हेल्थ को भी सुधारना है. जिससे कि पर्याप्त ऑक्सीजन की मात्रा हो सके. हरियाली और पर्यावरण का ध्यान रखते हुए बिहार के जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण विभाग द्वारा इस योजना का शुभारंभ किया गया है. आर्टिकल में आगे हम जानेंगे कि आप भी इस योजना में आवेदन करके कैसे हैं पेड़ लगाकर पैसे कमा सकते हैं.

पेड़ लगाने के बदले मिलेंगे पैसे

वैसे बता दें कि किसानों को जो पौधे दिए जाते हैं उनमें से लगभग 50% पौधे बच जाते हैं तो एक पौधे के हिसाब से उन्हें ₹60 अलग से दिए जाएंगे. इस योजना के तहत किसानों की आमदनी तो बढ़ेगी ही साथ में हरियाली भी बढ़ेगी. जिससे कि बिहार के किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार आएगा साथ ही पर्यावरण की स्थिति में भी जबरदस्त सुधार देखने को मिलेगा. प्रदेश की जलवायु परिवर्तन एवं पर्यावरण विभाग द्वारा इस योजना की प्लानिंग बनाई जा चुकी है जिसे जल्द ही राज्य के लोगों के लिए शुरू किया जाएगा.

Haryali Yojana 2022
Haryali Yojana 2022

क्यों बनाई गई है यह योजना

जैसा कि बता दे कि पर्यावरण के लिए हरियाली और पेड़-पौधों का होना बहुत ज्यादा आवश्यक है. वनों की अंधाधुंध कटाई के कारण वनों का क्षेत्र निरंतर कम होता ही जा रहा है जिससे कि पर्यावरण का तो नुकसान हो ही रहा है साथ ही लोगों को भी नई नई बीमारियां जकड़ रही है जिसके पीछे बहुत हद तक आसपास का पर्यावरण ही है. क्योंकि लोगों को जीने के लिए एक शुद्ध वातावरण नहीं मिल पाता. ना ही शुद्ध हवा मिलती है ना ही शुद्ध पानी मिलता है जिस कारण से बहुत से लोग बीमारियों से अपनी जान तक खो बैठते हैं. इसलिए बिहार सरकार द्वारा जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण विभाग को आदेशित करके इस योजना को बनाने के बारे में विचार किया गया है.

हरियाली बढ़ाने पर सरकार दे रही है जोर

बिहार राज्य में 2012 में हरियाली मिशन शुरू किया गया था जिसके अंतर्गत 24 करोड़ पौधे लगाने का उद्देश्य रखा गया था. इस हरियाली मिशन के अंतर्गत उस समय लगभग 22 करोड़ से ज्यादा पौधे लगाए गए थे. इसके बाद यह मामला फिर से सामने आया है कि अब फिर से बिहार सरकार पर्यावरण पर ध्यान देते हुए पर्यावरण को स्वच्छ बनाने के लिए एक और कदम उठाएगी. पर्यावरण और वन मंत्रालय ने इस योजना के संबंध में और भी कई तथ्य सामने रखे हैं. वही आपको बता दें कि हरित भारत राष्ट्रीय मिशन के तहत हरियाली बढ़ाने पर तो सरकार जोड़ दे ही रही है साथ ही साथ वन्यजीवों को संरक्षित करने के लिए भी सरकार पुरजोर कोशिश कर रही है.

कैसे ले सकते हैं इस योजना का लाभ

राज्य का कोई भी किसान यदि इस योजना का लाभ लेना चाहता है तो इसकी लिए हम आपको एक प्रक्रिया बता रहे हैं जिसके माध्यम से आप आसानी से आवेदन कर पाएंगे प्रक्रिया निम्नलिखित है.

  1. योजना का लाभ लेने के लिए किसान को सबसे पहले वन अधिकारी से संपर्क करना पड़ेगा.
  2. इसके बाद वन अधिकारी कुछ योग्यताएं निर्धारित करके आपसे कुछ जानकारी पूछेगा.
  3. इसके बाद आप आवेदन कर पाएंगे.
  4. आवेदन के अंतर्गत आपको बताना होगा कि आप कितने पौधे लगाने की इच्छुक हैं.
  5. इस योजना के लिए आप आवेदन 30 जून तक कर सकते हैं.
  6. किसानों को पौधा लगाने के साथ-साथ और भी कई सारी डिटेल से देनी होती है जैसे जमीन का खसरा, खाता, रकबा, रसीद नंबर आदि.
  7. किसानों में पौधे लगाने की जागरुकता को लेकर भी इस अभियान को चलाया जा रहा है.
Official Website Click Here
APS Home Page Click Here

Leave a Comment